Jharkhand boys, who beat poverty to follow their passion, have entered Khelo India Youth Games hockey semifinal

In March 2021, Jharkhand created history by winning the 11th Hockey India Sub-Junior Men’s National Championship.

They had, however, already scored a much more significant and crucial victory. Almost each member of the squad had waged a long and grim battle against poverty and hardship before making it into the team.

Manohar Mundu, 17, among the brightest in the lineup, lost his father when he was just a child. Like most kids around him, he started playing hockey with a bamboo stick.

This is all they could afford to pursue their passion. “We would play the entire day; it didn’t matter that we didn’t have any equipment,” he said shortly after their match in the Khelo India Youth Games.

Even after he was admitted into the Jharkhand Awasiya Balak Hockey Prashikshan Kendra in Khunti, the Residential School for Sports that supports 25 budding athletes in each district, Manohar’s travails didn’t end.

He still didn’t have money to buy shoes or a stick. He had to make do with hand-me-downs. Luckily, his coach was a generous man. He bought him his first pair of shoes and a nice hockey stick. His friend’s family too bailed him out once.

Abhishek Mundu’s father is a policeman. But he didn’t earn enough to send his son to an academy for training. Even the expense for daily commute was beyond him. Their coach Manohar Topno somehow convinced Abhishek’s father to not give hope, to send his son to the residential school.

“There is back-breaking poverty in the region. During the Covid lockdown, each player, still just boys, had to work, do all kinds of menial stuff, to support their families. Even adults cannot balance two lives, the way these boys do,” Topno says with a tinge of anger.

Duga Munda came to the residential school very young. “I keep going back home to help my father with farm work. We can’t hire labour. My parents feel happy seeing my progress but making ends meet is still quite a task.”

Another boy in the team from the government-run Awasiya Centre is Bilsan Dodrey. He comes from a village lost deep in the forest.

Poverty has different shades within the state, though. In the same hockey team, the boys in Eklavya Model Residential Schools and Tata Academy live in AC rooms and get a diet worth Rs 450 a day. The boys from Awasiya Centre, however, get a diet of Rs 150 to 175 per day.

Yet they play on the same turf and get medals. They learn about modern facilities and tactics by watching videos and participating in tournaments.

They are now poised to create history in the Khelo India Games too. Both their Boys and Girls teams are already in the semifinals. They are confident of winning at least one gold.

Ministry of Youth Affairs and SportsRelease Id :-1832079

होली की हार्दिक बधाईयां

*होली की हार्दिक बधाईयां*

रंग गुलाल के इस त्यौहार को*
*दिलों के मिठास को*
*प्रेम, बंधुत्व और मानवता की भावना  को*
*हार्दिक अभिनन्दन, स्वागत और शुभकामनायो के साथ*

*आपका मित्र*
*बिपुल कुमार*

*एक होली ठिठोरी मेरे तरफ से भी*
______________________

*मित्रों आयो खेले होली*
*रंग, गुलाल, चन्दन से करे आयो लीपापोती*
*बरज के रज में सन जाएँ*  
*बेसन हल्दी के उपटन लगाए*
*दही मखन से बदन को चाकलेटी बनाये*  
*फिर पास के पोखर में नहलाये*
*फिर देखें होली की असली चमक*
*मित्रों  बुरा न मानो होली है ___*

*थोड़ा करे हँसी ठिठोरी*
*फगुआहाट गायें*
*नाचे और नचायें*
*सतरंगी वेश बनाये*
*गांव की संस्कृति शहरो में*
*और शहरी दिलो में गांव बसाये।*  

*नशा नहीं है भांग और जामो में*
*जो नशा है दोस्तों के हंसी  ठिठोरियों में*
*मित्रों  बुरा न मानो होली है*  __

*मालपूये, गुजिया आयो खाये खिलाये*
*थोड़ा देसी जाम लसि, शिकंजी का पिलाये*
*पान का बीड़ा लॉन्ग इलायची से मुँह महकायें*
*मित्रों अच्छा लगे तो “बोलो होली है”।*  

*यूँ पकड़ा यूँ लपका*
*जो बुरा माने वही है सबसे ज्यादा लटका*
*बैलून भर भर के मारे*
*जिसका निशाना चूका, वो है बच्चा।*

*होली की हार्दिक बधाईयां*

Government has taken several steps to promote India as a Medical and Health Tourism Destination

Ministry of Tourism

Government has taken several steps to promote India as a Medical and Health Tourism Destination: Shri G Kishan Reddy

Posted Date:- Jul 20, 2021

Key Highlights:

  • National Medical & Wellness Tourism Board constituted to promote Medical/Wellness Tourism, AYUSH
  • A draft National Strategy and Roadmap for Medical and Wellness Tourism formulated
  • ‘E- Medical Visa’ introduced for 166 countries
  • Assistance provided under Market Development Assistance (MDA) Scheme to medical/wellness Tourism Service Providers &Centres
  • Medical & health tourism promoted at World Travel Mart (London), ITB, Berlin, Arabian Travel Mart etc.

Ministry of Tourism has taken several steps to promote India as a Medical and Health Tourism Destination.

In order to provide dedicated institutional framework to take forward the cause of promotion of Medical Tourism, Wellness Tourism and Yoga, Ayurveda Tourism and any other format of Indian system of medicine covered by Ayurveda, Yoga, Unani, Siddha and Homeopathy (AYUSH), Ministry has constituted a National Medical & Wellness Tourism Board with the Minister (Tourism) as its Chairman.  The Board works as an umbrella organization that promotes this segment of tourism in an organized manner.

Ministry of Tourism has formulated a draft National Strategy and Roadmap for Medical and Wellness Tourism.  In order to make the document more comprehensive, Ministry of Tourism has invited feedback/ comments/ suggestions on the draft National Strategy and Roadmap from identified Central Ministries, all the State Governments/UT Administrations and industry stakeholders. 

Brochure, CDs and other publicity material to promote Medical and health tourism have been produced by the Ministry and the same are widely distributed and circulated for publicity in target markets.

Medical and health tourism have been specifically promoted at various international platforms such as World Travel Mart, London, ITB, Berlin, Arabian Travel Mart etc.

Medical Visa’ has been introduced, which can be given for specific purpose to foreign travelers coming to India for medical treatment. ‘E- Medical Visa’ has also been introduced for 166 countries.   

Ministry of Tourism provides financial assistance under Market Development Assistance (MDA) Scheme to Medical/Wellness Tourism Service Providers and Wellness Centres accredited by NABH for participation in Medical/Tourism Fairs, Medical Conferences, Wellness Conferences, Wellness Fairs and allied Road Shows.

This information was given by Minister of Tourism Shri G. Kishan Reddy in a written reply in Rajya Sabha today.                                                                                              

*****

Happy International Yoga Day 2021 🧎🧎‍♀️🧎‍♂️🏃‍♂️🌻🌻🌻🌻 Text of PM’s address on International Yoga DayText of PM’s address on International Yoga Day

Text of PM’s address on International Yoga Day

नमस्कार !

आप सभी को सातवें ‘अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस’ की बहुत बहुत शुभकामनाएं।

आज जब पूरा विश्व कोरोना महामारी का मुकाबला कर रहा है, तो योग उम्मीद की एक किरण भी बना हुआ है। दो वर्ष से दुनिया भर के देशो में और भारत में भले ही बड़ा सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजित नहीं हुआ हों लेकिन योग दिवस के प्रति उत्साह ज़रा भी कम नहीं हुआ है. कोरोना के बावजूद , इस बार की योग दिवस की थीम “Yoga for wellness” ने करोड़ों लोगों में योग के प्रति उत्साह को और भी बढाया है .मैं आज योग दिवस पर ये कामना करता हूं की हर देश, हर समाज और हर व्यक्ति स्वस्थ हो, सब एक साथ मिलकर एक दूसरे की ताकत बनें.

साथियों,

हमारे ऋषियों-मुनियों ने योग के लिए “समत्वम् योग उच्यते” ये परिभाषा दी थी। उन्होंने सुख-दुःख में समान रहने, संयम को एक तरह से योग का पैरामीटर बनाया था। आज इस वैश्विक त्रासदी में योग ने इसे साबित करके दिखाया है। कोरोना के इन डेढ़ वर्षों में भारत समेत कितने ही देशों ने बड़े संकट का सामना किया है।

साथियों,

दुनिया के अधिकांश देशों के लिए योग दिवस कोई उनका सदियों पुराना सांस्कृतिक पर्व नहीं है। इस मुश्किल समय में, इतनी परेशानी में लोग इसे आसानी से भूल सकते थे, इसकी उपेक्षा कर सकते थे। लेकिन इसके विपरीत, लोगों में योग का उत्साह और बढ़ा है, योग से प्रेम बढ़ा है। पिछले डेढ़ सालों में दुनिया के कोने कोने में लाखों नए योग साधक बने हैं। योग का जो पहला पर्याय, संयम और अनुशासन को कहा गया है, सब उसे अपने जीवन में उतारने का प्रयास भी कर रहे हैं।

साथियों,

जब कोरोना के अदृष्य वायरस ने दुनिया में जब दस्तक दी थी, तब कोई भी देश, साधनों से, सामर्थ्य से और मानसिक अवस्था से, इसके लिए तैयार नहीं था। हम सभी ने देखा है कि ऐसे कठिन समय में, योग आत्मबल का एक बड़ा माध्यम बना। योग ने लोगों में ये भरोसा बढ़ाया कि हम इस बीमारी से लड़ सकते हैं।

मैं जब फ्रंटलाइन वारीयर्स से, डॉक्टर्स से बात करता हूँ, तो वो मुझे बताते हैं कि, कोरोना के खिलाफ लड़ाई में उन्होंने योग को भी अपना सुरक्षा-कवच बनाया। डॉक्टरों ने योग से खुद को भी मजबूत किया, और अपने मरीजों को जल्दी स्वस्थ करने में इसका उपयोग भी किया। आज अस्पतालों से ऐसी कितनी ही तस्वीरें आती हैं जहां डॉक्टर्स, नर्सेस, मरीजों को योग सिखा रहे हैं, तो कहीं मरीज अपना अनुभव साझा कर रहे हैं। प्राणायाम, अनुलोम-विलोम जैसी breathing exercises से हमारे respiratory system को कितनी ताकत मिलती है, ये भी दुनिया के विशेषज्ञ खुद बता रहे हैं।

साथियों,

महान तमिल संत श्री थिरुवल्लवर ने कहा –

“नोइ नाडी, नोइ मुदल नाडी, हदु तनिक्कुम, वाय नाडी वायपच्चयल” अर्थात्, अगर कोई बीमारी है तो

उसे diagnose करो, उसकी जड़ तक जाओ, बीमारी की वजह क्या है ये पता करो, और फिर उसका इलाज सुनिश्चित करो। योग यही रास्ता दिखता है ।आज मेडिकल साइंस भी उपचार के साथ साथ हीलिंग पर भी उतना ही बल देता है और योग हीलिंग प्रोसेस में उपकारक है .मुझे संतोष है कि आज योग के इस पहलू पर दुनिया भर के विशेषज्ञ अनेक प्रकार के scientific रीसर्च कर कर रहे हैं उस पर काम कर रहे हैं।

कोरोना काल में, योग से हमारे शरीर को होने वाले फ़ायदों पर, हमारी immunity पर पड़ने वाले सकारात्मक प्रभावों पर कई स्टडीज़ हो रही हैं। आजकल हम देखते है कई स्कूलों में ऑनलाइन क्लासेस की शुरुआत में

10-15 मिनट बच्चों को योग – प्राणायाम कराया जा रहा है। ये कोरोना से मुकाबले के लिए भी बच्चों को शारीरिक रूप से तैयार कर रहा है।

साथियों,

भारत के ऋषियों ने हमें सिखाया है-

व्यायामात् लभते स्वास्थ्यम्,

दीर्घ आयुष्यम् बलम् सुखम्।

आरोग्यम् परमम् भाग्यम्,

स्वास्थ्यम् सर्वार्थ साधनम् ॥

अर्थात्, योग-व्यायाम से हमें अच्छा स्वास्थ्य मिलता है, सामर्थ्य मिलता है, और लंबा सुखी जीवन मिलता है। हमारे लिए स्वास्थ्य ही सबसे बड़ा भाग्य है, और अच्छा स्वास्थ्य ही सभी सफलताओं का माध्यम है। भारत के ऋषियों ने, भारत ने जब भी स्वास्थ्य की बात की है, तो इसका मतलब केवल, शारीरिक स्वास्थ्य नहीं रहा है। इसीलिए, योग में फ़िज़िकल हेल्थ के साथ साथ मेंटल हेल्थ पर इतना ज़ोर दिया गया है। जब हम प्राणायाम करते हैं, ध्यान करते हैं, दूसरी यौगिक क्रियाएँ करते हैं, तो हम अपनी अंतर-चेतना को अनुभव करते हैं। योग से हमें ये अनुभव होता है कि हमारी विचार शक्ति, हमारा आंतरिक सामर्थ्य इतना ज्यादा है कि दुनिया की कोई परेशानी, कोई भी negativity हमें तोड़ नहीं सकती। योग हमें स्ट्रेस से स्ट्रेंथ की ओर, नेगेटिविटी से क्रिएटिविटी का रास्ता दिखाता है। योग हमें अवसाद से उमंग और प्रमाद से प्रसाद तक ले जाता है।

https://pib.gov.in/PressReleaseIframePage.aspx?PRID=1728899

Regards 🙏🙏🙏
Bipul Kumar